Thursday, March 15, 2012

और दरिंदगी जीत गयी !!

   
         था वो नन्हा फूल लड़ा 
         बड़ी हिम्मत और सब्र से , पर         
         झेल न पाया इंसानों के               
         ज़ुल्म ओ सितम की आंधी को 
        और दरिंदगी जीत गयी !!
                         कुचला गया था इस हद तक 
                         रोने के भी लायक न था 
                        जख्म थे इतने गहरे कि 
                        कोई सीने के लायक न था 
                        बिछड़ा था माली से अपने 
                        और चमन से बहुत दूर 
                        लाख दुआएं काम न आयीं 
                        और दरिंदगी जीत गयी !!
       एक कोंपल थी, कली अभी तक 
       बनने न पाई थी वो 
      लाखों सपने इस दुनिया में 
      पलकों पे लायी थी वो 
      पूरे वतन की आशाओं के फलक पे 
      लहराई थी वो 
      रक्षक से भक्षक विजयी हुआ 
      और दरिंदगी जीत गयी !! 

 
                             
                       जाते-जाते कितनी रूहें 
                      जाने घायल कर गयी 
                      कितनी नन्ही जानों को 
                      सादी मौत का कायल कर गयी 
                      तैनात फ़रिश्ते सुबहो शाम 
                      उसकी खिदमत में रहते थे 
                     फिर भी झपट्टा मारा काल ने 
                    और दरिंदगी जीत गयी !! 
   है हिसाब देने को कोई 
   कितने ऐसे फलक गिरेंगे ?
   कब तक इन्सां बाज़ारों में 
   यूँ सौदे की तरह बिकेंगे ?
   कब तक ये व्यापार चलेगा 
  कितना कारोबार फलेगा 
  कब तक ये सुनना पड़ेगा 
  कि दरिंदगी जीत गयी ???

13 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  3. Aankhein meri nam hui
    kitni peeda sehati ho Tum

    Kitna angaar dba sine mey
    kitna kam kehti ho Tum

    Tum jso se zinda smvedna
    Jo dukh sbka sehti ho Tum

    ReplyDelete
  4. Replies
    1. जी ! और इतना दुखद कि जिसने मानवता को झकझोर कर रख दिया है !!

      Delete
  5. मार्मिक प्रस्तुति .... दुखद घटना पर सटीक प्रश्न करती रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, जवाब न जाने कब मिलेगा !!

      Delete
  6. आपके इस पोस्ट की चर्चा यहाँ भी...

    http://tetalaa.nukkadh.com/2012/03/blog-post_16.html

    ReplyDelete
  7. बहुत आभार संतोष जी, मेरी पीड़ा को अधिक लोगों तक पहुँचाने के लिए !!!

    ReplyDelete
  8. क्या कहूँ...
    निःशब्द हूँ.....
    नमन आपकी लेखनी को...

    ReplyDelete
  9. बहुत बहुत धन्यवाद्, expression ji !!............... काश के हम लोग अपनी कलम द्वारा ऐसी मार्मिक दुर्घटनाओं को कुछ हद्द तक रोक पाने में समर्थ हो पायें !

    ReplyDelete
  10. Sir,
    kbile Taareef hai apki baat// magar ham sab kitne lachar hain ki jin longon ke liye ye saari baten, aur soch hai ve log kabhi nahi janenge aap ke hamare dil ka dard , nahin janen ge is sundar sooch ki keemat //
    THANKS ALOT
    MAVARK

    ReplyDelete

अगर आयें हैं तो कुछ फरमाएँ !