Saturday, April 21, 2012

क्यूँ ओझल हो गयी ?

                 

                                   हे मृगनयनी , झलक दिखा क्यूँ 
                         मुझे नयन की 
                         ओझल हो गयी ?
     
                       सौन्दर्य-रति, हे रूप-सुधा 
                       हे शीत-दरश , कंचन- प्रतिमा 
                       तेरी सौन्दर्य-सुधा का मुझसे 
                       पान न पूरा हो पाया 
                       जगा पिपासा प्यासे मन की 
                       तू क्यूँ ओझल हो गयी ?

                       तेरे केशों की गंध भी 
                       पूरी मुझ तक आई न थी !
                       अभी तो तेरी साँसों ने 
                       मेरी साँसें महकायी न थीं !
                       ठंडक देने से पहले तू क्यूँ 
                       अपने तन की , ओझल हो गयी ?

                      अभी तो मेरे सोये मन के 
                      तारों ने बजना सीखा था !
                      अभी तो मेरे सपनों ने 
                       पलकों में सजना सीखा था !
                       सुरभि फ़ैलाने से पहले 
                       क्यों मधुबन की 
                      ओझल हो गयी ?

                     नहीं कुसुम भी इतना कोमल 
                     होगा तेरे जैसा !
                     पंखुड़ी का तन शायद होगा 
                     कोमल तेरे जैसा !
                     छटा क्यों बिखराने से पहले 
                     पंखुड़ी सुमन की 
                     ओझल हो गयी ?
    
                     हे मृगनयनी , झलक दिखा क्यूँ 
                     मुझे नयन की 
                     ओझल हो गयी ? 
        
      

5 comments:

  1. दिल की नज़र से देखो,
    वह तुम्हारे पास होगी,
    हर साँस में अहसास होगी !

    ReplyDelete
  2. Ye vakaii behad umda h..! :-)

    Hriday ko eksath jankrit krnewali or vairagya bhav jganewali b..!!:-):-)

    Alankar or lyatmkta b dekhte hi bnti h..!!! :-):-):-)

    mujhe achraz hota h itne komal udgar pdh kr k kya ye usi Rchna ki Rchna h jo itni chanchal h..!! :-):-)

    Dukh ye dekh kr hota hai k abtk iss pratibha ka prakash keval parichito k hridyon ko hi aalokit krska h..! :-(

    ReplyDelete
  3. hausla-afzayi k liye bahut-2 shukriya PS :)))

    ReplyDelete
  4. नारी सौंदर्य की एक नारी मन के माध्यम से खूबसूरत अभिव्यक्ति ......जो हिंदी काव्य में बहुत कम नज़र आता है ......

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद पवन जी.. :)
      मेरा मानना है कि सौंदर्य केवल सौंदर्य है, नारी और पुरुष, दोनों को उसकी सराहना करने में कोई झिझक नहीं होनी चाहिए....

      Delete

अगर आयें हैं तो कुछ फरमाएँ !